Advertisement

यूपी बोर्ड की प्रयोगात्मक परीक्षा में बदलाव, अब विद्यार्थियों को मिलेंगे और भी विकल्प

Newsvillah.in
Newsvillah.in

यूपी बोर्ड ने सीबीएस की तर्ज अपनी प्रयोगात्मक परीक्षा में भी बदलाव किए हैं जो अब पहले से आसान होगी इंटरमीडिएट के विद्यार्थियों को अब प्रैक्टिकल के लिए विकल्प दिए जाएंगे हालांकि इसके अंकों का विभाजन वर्ष 2014 के पैटर्न के अनुसार ही होगा इसमें कोई बदलाव नहीं किया गया है जिले के माध्यमिक स्कूलों में यूपी बोर्ड की प्रयोगात्मक परीक्षा 15 दिसंबर से शुरू हो रही है इस बार से यूपी बोर्ड में एनसीईआरटी का पाठ्यक्रम लागू किया गया है इंटर की प्रयोगात्मक परीक्षा के पैटर्न में बदलाव करते हुए यूपी बोर्ड ने इसे सीबीएसई की तर्ज पर तैयार कराया है मंडलीय विज्ञान प्रगति अधिकारी डॉ दिनेश कुमार ने बताया कि पाठ्यक्रम में प्रयोगात्मक को
काफी आसान बनाया गया है इसे करने में छात्रों को काफी कम समय लगेगा इतना ही नहीं बल्कि उन्हें क्रियाओं को करने के लिए वैकल्पिक भी मिलेंगे और वे जल्द ही क्रियाओं को खत्म कर सकेंगे परीक्षा के दौरान प्रयोगशाला में मौजूद सभी विद्यार्थियों को एक ही प्रयोगात्मक क्रिया करने को नहीं दी जाएगी रसायन विज्ञान में छात्रों को एक चिट मिलेगी जिसमें विकल्प दिए होंगे छात्र को उनमें से किसी एक क्रिया को करना होगा जबकि जीव विज्ञान में 10 छात्रों का समूह बनाया जाएगा हर समूह को अलग अलग प्रयोग दिया जाएगा
30 अंकों का ही होगा प्रैक्टिकल

भले ही पाठ्यक्रम के साथ पेपर पेटर्न में बदलाव कर दिया गया है लेकिन प्रयोगात्मक परीक्षा में छात्रों को अब उसी प्रकार से दिए जाएंगे जो वर्ष 2014 में बोर्ड द्वारा प्रभावित है डॉ दिनेश कुमार ने बताया कि परीक्षा को की सूची के साथ अंक विभाजन का प्रारूप भी दिया गया है हर साल की भलि- भाँति एक उसी अधिकार दिया
जाएगा प्रयोगात्मक परीक्षा 30 अंकों की होगी उपयोग होने के लिए 10 अंक अनिवार्य है वाह्य् और आंतरिक मूल्यांकन के बराबर बराबर अंक निर्धारित है वाह्य में विषय वस्तु आधारित कोई एक प्रयोग, प्रयोग आधारित मौखिकी एक विषय से संबंधित प्रश्न होंगे आंतरिक मूल्यांकन में कक्षा रिकॉर्ड आधारित विषय वस्तु आधारित एक प्रयोग होगा व्यक्तिगत छात्रों के लिए प्रोजेक्ट कार्य के लिए 7 और प्रोजेक्ट अधिकारी मौखिकी के साथ निर्धारित है।

Post a Comment

0 Comments