Advertisement

मुख्यमंत्री पद संभालने के साथ ही कमलनाथ ने लगाई उत्तर प्रदेश व बिहार पर रोक

मध्य प्रदेश:जहां एक तरफ़ किसानों की कर्जमाफी के लिए मुख्यमंत्री कमलनाथ जी ने दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर कर खुद को एक मसीहा की तरह साबित किया,वहीं दूसरी ओर आई खबर ने कमलनाथ जी को बहुत ही छोटे दिल का व्यक्ति समझने पर मजबूर कर दिया।

newsvillah.in


माननीय मुख्यमंत्री द्वारा दिये गए एक बयान में उन्होंने कहा है कि मध्य प्रदेश में नौकरियों में दिए जाने वाले इंटेनसिव बोनस तभी लागू होंगे जब यहां दिए जाने वाले 70% रोज़गार लोकल निवासियों को दिए जाएं अर्थात यदि हम सीधे शब्दों में बात करें तो उनका कहना है कि अब उ0प्र0 व बिहार क्षेत्र के निवासी मध्य प्रदेश में नौकरी नही कर सकेंगे,कहने को तो भारत एक संयुक्त एकैकी राष्ट्र है लेकिन ऐसे बयान यह सोचने पर मजबूर करते हैं कि भारत के सभी प्रदेशों की एकता विखण्डित हो रही है?
newsvillah.in


अभी कांग्रेस सरकार आए इतना समय भी नही बीता और ऐसे विवादित बयान जारी हो रहे लोगों का विरोध लगातार जारी है उत्तर प्रदेश व बिहार राज्य के लोगों को यह किसी अपमान से कम नही लग रहा है कि भारत मे रहकर भी वह एक भारतीय राज्य में ही नौकरी पेशा के लिये नही कार्यरत हो सकते।

Post a Comment

0 Comments