Advertisement

घेराबंदी करने में जुटी भाजपा, अब क्या होगा कांग्रेसी किलो का?

Newsvillah.in
Newsvillah.in

मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़और राजस्थान की सत्ता छिन जाने की चिंता के बीच भाजपा ने उत्तर प्रदेश में कांग्रेसी किलो रायबरेली और अमेठी के साथ अन्य विपक्षी स्वभाव की घेराबंदी की तैयारी शुरू कर दी है। पार्टी नेतृत्व ने इसके लिए विकास के साथ सरकारों के एजेंट पर आगे बढ़ने का फैसला किया है।
पर्दे के पीछे से तो इन किलो पर भाजपा का झंडा फहराने की रणनीति पर काम पहले से ही शुरू हो गया था, पर अब जब अगले साल लोकसभा का चुनाव भी समझ सजना है तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राजनीति को जमीन पर उतारने की जिम्मेदारी अपने हाथ में ले ली है। मोदी इसकी शुरुआत 16 दिसंबर को कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी के क्षेत्र रायबरेली में करने जा रहे हैं। प्रधानमंत्री योजना रायबरेली में कई परियोजनाओं की शुरुआत करेंगे साथ ही सभा भी करेंगे। मोदी की सभा एक तरह से लोकसभा चुनाव के अभियान की शुरुआत होगी।
गढ के साथ होगी जड़ पर भी नज़र:


सोनिया के पुत्र और कांग्रेस के मौजूद राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के चुनाव क्षेत्र में तो फिलहाल मोदी का भी कार्यक्रम तय नहीं हुआ है पर पार्टी के एक नेता का दावा है कि जल्दी ही उनका अमेठी का भी कार्यक्रम तय हो सकता है, वैसे भी अमेठी में मोदी ने केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को पहले से ही सक्रिय कर रखा है। वह विकास के मुद्दे पर लगातार राहुल को घेर रही है अभी पिछले दिनों ही अमेठी में बड़ा कार्यक्रम करने की ईरानी कामों की शुरुआत करा चुकी है।
ऐसा माना जाता है कि रायबरेली की सभा में प्रधानमंत्री के निशाने पर किसी ना किसी रूप में अमेठी भी रहेगी रायबरेली के बाद मोदी पर आगरा जाएंगे। कांग्रेस का नहीं कहा जा सकता, लेकिन कांग्रेस की जड़ों से जुड़ा होने के कारण मोदी का एक ही दिन रायबरेली व प्रयागराज जाना संयोग नहीं है। इसके पीछे कहीं ना कहीं सियासी समीकरण भी हो सकती है। मोदी रायबरेली में सियासी संग्राम की शुरुआत करेंगे तो, प्रयागराज में अगले महीने शुरू होने वाले कुंभ के मद्देनजर कई कामों की शुरुआत और सभा कर सियासी चौसर पर हिंदुत्व के सरोकारों के समीकरण जाएंगे।

Post a Comment

0 Comments