Advertisement

मंत्रियों के रिश्तेदारों का दखल बर्दाश्त नहीं: योगी


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी राज्य मंत्रियों और स्वतंत्र प्रभार वाले राज्य मंत्रियों को सख्त लहजे में हिदायत दी है कि कोई भी मंत्री अपने रिश्तेदारों व नातेदार को निजी सचिव के पद पर ना रखें। उनके रिश्तेदार सरकारी कामकाज में ना दखल दे और ना ही किसी अफसर अपने काम के लिए दबाव ना बनाएं। उन्होंने यह भी कहा कि सचिवालय के निजी सचिवों को रखने से पहले उनके बारे में तहकीकात करा लें मुख्यमंत्री ने कहा कि 20 से 30 जनवरी तक अपने-अपने प्रभात वाले जिलों के प्रवास करें और वहां कार्यकर्ताओं और संगठन के बीच तालमेल बनाए लोकसभा चुनावों के मद्देनजर केंद्र व राज्य सरकार की योजनाओं को जमीन तक उतारने का काम करें।

मुख्यमंत्री का अपने राज्य मंत्रियों को यह संकेत पिछले दिनों तीन मंत्रियों के निजी सचिवों के भ्रष्टाचार की वजह से पकड़े जाने को लेकर था मुख्यमंत्री ने की राज्य मंत्रियों द्वारा अपने रिश्तेदारों को निजी सचिव बनाए जाने वाले दारू का उनके विभाग में हस्तक्षेप करने की लगातार शिकायतें मिल रही है इसको लेकर उन्होंने पहले भी चेतावनी दी थी मुख्यमंत्री ने लोकसभा चुनावों के मद्देनजर राज्य मंत्रियों को अपने प्रभारी जिलों के अलावा अन्य जिलों में दौरे तेज करने के निर्देश दिए दौरे में केंद्र व राज्य सरकारों की योजनाओं को जनता तक पहुंचाने को भी कहा मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को कैबिनेट से पहले राज्य मंत्रियों को स्वतंत्र प्रभार मंत्रियों के साथ बैठक की उन्होंने कहा कि हर जिले की तहसीलों में गोवंश की रक्षा के लिए गौशालाओं का निर्माण कराया जा रहा है राज्यमंत्री जिलों के अपने दोनों में इन गौशालाओं के निर्माण पर भी अपनी नजर रखें।


26 जनवरी से गंगा में क्रूज़ चलाने का एलान
राज्य मुख्यालय: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सरकारी आवास 5 कालिदास मार्ग से कुंभ दर्शन हेरीटेज एंड फोटोग्राफी ट्रेन बस को प्रयागराज के लिए झंडी दिखाकर रवाना किया। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने ऐलान किया कि आगामी 26 जनवरी से गंगा जी में कुछ यात्रा की सुविधा भी मिलने लगेगी इस अवसर पर आयोजित समारोह में मुख्यमंत्री ने कहा कि यद्यपि कुंभ का आयोजन तीर्थाटन के लिए किया जाता है लेकिन इस कुंभ के माध्यम से पर्यटन को बढ़ावा देने की दृष्टिगत राज्य सरकार ने पिछले डेढ़ वॉइस से तैयारियां की हैं इस दौरान कुंभ में बुनियादी सुविधाओं जैसे सेतुओं, आरओबी निर्माण सड़कों का चौड़ीकरण इत्यादि का लगातार विकास किया गया। ताकि मेला क्षेत्र आने वाले श्रद्धालुओं को कोई असुविधा ना हो। मुख्यमंत्री ने कहा कि कुंभ में किसी प्रकार का भेदभाव नहीं है। यह एक स्फूर्त जनसमागम है 70 देशों के राजपूतों ने यहां आकर कुंभ के आयोजन की तैयारियों को देखा तथा उन्होंने दुनिया के सबसे बड़े संगम का दर्शन किया।

Share this Article

Post a Comment

0 Comments